UP का मुरादाबाद देश का सबसे प्रदूष‍ित शहर

UP का मुरादाबाद देश का सबसे प्रदूष‍ित शहर, जहरीली हवा से लोग परेशान यहां की हवा में 500 प्रत‍ि घन मीटर प्रदूषण की मात्रा मापी गई

प्रदूषण से बचने के घरेलू नुस्खे
आख़िरकार मिल ही गया पराली का हल, भविष्य में नहीं होगी प्रदुषण में जिम्मेदार
pollution news heading 1

UP का मुरादाबाद देश का सबसे प्रदूष‍ित शहर, जहरीली हवा से लोग परेशान

यहां की हवा में 500 प्रत‍ि घन मीटर प्रदूषण की मात्रा मापी गई है, जो क‍िसी भी जीव-जन्तुओं के ल‍िए खतरनाक है।

UP का मुरादाबाद देश का सबसे प्रदूष‍ित शहर, जहरीली हवा से लोग परेशान

डॉक्टर के मुताबिक, कोहरे और धुंध भरे मौसम में सांस और ब्लड प्रेशर के मरीजों को दिक्कत हो सकती है।
मुरादाबाद.वर्ल्ड में पीतल नगरी के नाम से मशहूर यूपी का मुरादाबाद शहर की हवा देश में सबसे जहरीली हो गई है। केंद्रीय प्रदूषण न‍ियंत्रण बोर्ड की ओर से जारी इंडेक्स र‍िपोर्ट में देश के प्रदूष‍ित शहरों में मुरादाबाद सबसे टॉप पर है। यहां की हवा में 500 प्रत‍ि घन मीटर प्रदूषण की मात्रा मापी गई है, जो क‍िसी भी जीव-जन्तुओं के ल‍िए खतरनाक है। जानकारों की मानें तो इसकी मात्रा 200 से अध‍िक होने पर हान‍िकारक मानी जाती है। आगे पढ़‍िए
टॉप फाइव में यूपी के 3 शहर…
देश के टॉप फाइव प्रदूषित शहर
-मुरादाबाद: 500 प्रति घन मीटर
-गाजियाबाद: 475 प्रति घन मीटर
-नोएडा: 468 प्रति घन मीटर
-हावड़ा: 451 प्रति घन मीटर
-दिल्ली: 448 प्रति घन मीटर
क्या कहते हैं प्रदूषण न‍ियंत्रण बोर्ड की प्रोजेक्ट इंचार्ज
-हिन्दू डिग्री कॉलेज की वनस्पति विज्ञान की प्रोफेसर और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की प्रोजेक्ट इंचार्ज अनामिका त्रिपाठी ने बताया, मुरादाबाद ज‍िले में उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा स्थापित वायु गुणवता अनुश्रवण केंद्र द्वारा पिछले दो दिनों में जो आंकड़े रिकॉर्ड किए हैं वो मुरादाबाद के लिए किसी भी मायने में संतोष देने वाले नहीं है।
-केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा मंगलवार को जारी डेली एयर इंडेक्स रिपोर्ट में मुरादाबाद को सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों की सूची में नंबर एक पर रखा है। मुरादाबाद ज‍िले में रिकॉर्ड किए आंकड़ों में प्रति गहन मीटर में 500 मापा गया है, जबकि दिल्ली में यह आंकड़ा 448 और गाजियाबाद में 475 प्रति घन मीटर मापा गया है।
-उन्होंने बताया, मुरादाबाद में प्रदूषण का लेबल ब्लाइंड लेबल पर है। लिहाजा आम लोगों को मास्क पहनना आवश्यक है। जि‍ले के कई हिस्सों में मैनुअल डाटा रिकॉर्ड में हालात बद से बदतर पाए गए हैं।
क्या कहते हैं डॉक्टर
-जिला अस्पताल के डॉक्टर वीर सिंह ने बताया, मौसम के सर्द होने और जहरीली धुंध के चलते बच्चों ओर बुजुर्गों को डॉक्टरों की मदद लेने के लिए अस्पताल के चक्कर काटने पड़ रहे है।
-जिला अस्पताल में पिछले दो दिनों में निमोनिया, दमा ओर सांस के मरीजों की तादाद लगातार बढ़ रही है। अगर जल्द ही मौसम सही नहीं हुआ तो हालत सम्भालने में दिक्कत हो सकती है।
-ऐसे हालात में इस मौसम में बच्चों को घर से बाहर न भेजने की सलाह दे रहे हैं। डॉक्टरों का कहना है क‍ि भरपूर मात्रा में लिक्विड ओर पौष्टिक आहार लोगों को लेना चाह‍िए।
धुंध के कारण शहर में जनजीवन अस्त-व्यस्त
-एमएच डिग्री कॉलेज के प्रिं्स‍िपल विशेष कुमार गुप्ता ने कहा, धुंध के चलते शहर में जनजीवन अस्त-व्यस्त हुआ है। ज्यादातर कालेजों में छात्रों की उपस्थिति न के बराबर है। कार्यालयों में भी सन्नाटा पसरा हुआ है।
-प्रदूषित हो चली आबोहवा के चलते लोग समझ नहीं पा रहे हैं कि इसका स्थाई समाधान क्या होगा। कॉलेज संचालक जिलाधिकारी से स्कूलों को फिलहाल बंद करने की अपील कर रहे हैं।
-उन्होंने कहा, पीतल कारोबार और इलेक्ट्रानिक कचरा जलाने के सबसे बड़े हब के रूप में मुरादाबाद को प्रदूषण रिटर्न गिफ्ट के तौर पर मिल रहा है। प्रशासन की नाकामी और अवैध कचरा लाने और जलाने पर सिर्फ दावे कर काम चलाने वाले अधिकारी अभी भी हालत की भयावह को नहीं समझ पा रहे हैं।
-जानकारों की मानें तो आने वाले समय में इस जहरीली हवा का खामियाजा लोगों को बड़े पैमाने पर भुगतना होगा।
मेरठ में भी छाया रहा घना कोहरा
– यूपी के मेरठ में बुधवार सुबह से ही घना कोहरा छाया रहा। घने कोहरे की वजह से हाइवे पर वाहनों की रफ्तार धीमी हो गई। कोहरे के कारण कई स्थानों पर वाहन आपस में भिड़ गए। मौसम विभाग ने सर्द हवा चलने और तापमान में और गिरावट आने की बात कही है।
– वहीं, फिजीशियन डॉ. दिनेश कुमार के मुताबिक, बदलते मौसम में स्वास्थ्य के प्रति खास ध्यान रखना चाहिए। सांस, दमा, हार्ट, ब्लड प्रेशर आदि की बीमारी से ग्रसित मरीजों को खासतौर पर इस मौसम में एहतिहात रखनी होगी।
– डॉ. दिनेश के मुताबिक, कोहरे और धुंध भरे मौसम में सांस और ब्लड प्रेशर के मरीजों को दिक्कत हो सकती है। ऐसे मौसम में सुबह के समय घूमने जाते समय भी सावधानी बरतनी चाहिए। मरीज को किसी भी तरह की परेशानी होने पर तुरंत डॉक्टर की सलाह से दवा लेनी चाहिए।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0