रायपुर : स्वास्थ्य मंत्री ने ‘झुग्गी बस्तियों में स्वास्थ्य सेवाओं का उन्मुखीकरण’ कार्यशाला का शुभारंभ किया

रायपुर : स्वास्थ्य मंत्री ने ‘झुग्गी बस्तियों में स्वास्थ्य सेवाओं का उन्मुखीकरण’ कार्यशाला का शुभारंभ किया लोक कल्याणकारी विषय पर मंथन नीति-निर्

आधी ‘पद्मावती’ बघा मगच विरोध करा- नाना
छत्तीसगढ़ यहां धान के आभूषणों से लोगों को मिला साल में लाखों की आमदनी का रास्ता !
अम्बिकापुर : स्वास्थ्य सचिव श्री सुब्रत साहू द्वारा मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण : मेडिकल काउन्सिल ऑफ इण्डिया के मानकों का पालन करने के निर्देश


रायपुर : स्वास्थ्य मंत्री ने ‘झुग्गी बस्तियों में स्वास्थ्य सेवाओं का उन्मुखीकरण’ कार्यशाला का शुभारंभ किया

लोक कल्याणकारी विषय पर मंथन नीति-निर्माण में
मील का पत्थर साबित होगा: श्री चन्द्राकर

रायपुर, 15 दिसम्बर 2017

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री अजय चंद्राकर ने आज राजधानी रायपुर स्थित एक निजी होटल में ‘झुग्गी बस्तियों में स्वास्थ्य सेवाओं का उन्मुखीकरण’ विषय पर आयोजित कार्यशाला का शुभारंभ किया। श्री चन्द्राकर ने इस मौके पर ‘छत्तीसगढ़़ राज्य में राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिशन का प्रभावी कार्यान्वयन’ पुस्तिका और छत्तीसगढ़ अरबन हेल्थ मिशन के मोबाइल एप का भी शुभारंभ किया। श्री चन्द्राकर ने शुभारंभ स़त्र को संबोधित करते हुए कहा कि लोक कल्याणकारी विषय पर आयोजित कार्यशाला स्वास्थ्य के क्षेत्र में नीति-निर्माण में मील का पत्थर साबित होगा। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवा में बेहतर काम हो रहे है। बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं के लिए लगातार काम किए जा रहे हैं। श्री चन्द्राकर ने उपस्थित जनप्रतिनिधियों से कहा कि जन सेवाओं के एंजेंडे में समाज के निचले तबकों की सेवाएं निर्माण कार्यों से ऊपर होना चाहिए। उन्हांेने कहा कि शहरी क्षेत्रों में स्थानीय संस्थाएं है। दसवीं और बारहवीं अनुसूची में जो विषय दिए है उसमें सफाई, शिक्षा और स्वास्थ्य को सर्वेच्च स्थान पर रखा गया है।
कार्यशाला को केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की संयुक्त सचिव श्रीमती प्रीति पंत ने भी संबोधित किया। उन्होंने शहरी स्वास्थ्य और शहरी विकास विभाग के समन्वय से बेहतर कार्य करने पर बल दिया। कार्यशाला में स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव श्री सुब्रत साहू ने कहा कि प्राथमिक स्वास्थ्य सेक्टर को मजबूत बनाने के लिए सुविधाओं के साथ ही समन्वय की जरूरत है। स्लम क्षेत्र में छोटी-छोटी समस्याएं को दूर कर ही समाजिक सेक्टर को सुदृढ़ कर सकते हैं। उन्हांेने कहा कि शहरी विकास और स्वास्थ्य दोनों विभागों के समन्वय से झुग्गी बस्तियों में रहने वालों के लिए और ज्यादा अच्छा कार्य किया जा सकता है।
कार्यशाला में नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग के सचिव डॉ. रोहित यादव ने कहा कि शहरी क्षेत्रों में जिस तेजी से आबादी बढ़ रही है, उस हिसाब से स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराना चुनौती पूर्ण कार्य है। उन्होंने कहा कि स्लम क्षेत्र में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए शहरी विकास और स्वास्थ्य विभाग को और अधिक समन्वय से काम करना चाहिए।
कार्यशाला में प्रदेश के चिन्हाकिंत 19 नगरीय निकाय के महापौर, अध्यक्ष और मुख्य कार्यपालन अधिकारी विशेष रूप से शामिल हुए। कार्यशाला में केरल, गुजरात और तेलंगाना सहित देश के विभिन्न राज्यों के चिकित्सा विशेषज्ञ, संचालक स्वास्थ्य सेवाएं श्रीमती रानू साहू, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मिशन संचालक डॉ. सर्वेश्वर भूरे, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के संचालक डॉ. आर.आर. साहनी सहित अनेक अधिकारी उपस्थित थे।

क्रमांक-3999/ओम

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0