कवर्धा : विशेष आलेख : युवाओं के सपने होंगे साकार, मुख्यमंत्री कौशल विकास से मिला आधार : कबीरधाम जिले के तीन हजार 328 प्रशिक्षित युवाओं को मिला रोजगार

कवर्धा : विशेष आलेख : युवाओं के सपने होंगे साकार, मुख्यमंत्री कौशल विकास से मिला आधार : कबीरधाम जिले के तीन हजार 328 प्रशिक्षित युवाओं को मिला रोजगार

Smart Libraries रोजगार का नया अवसर एवं संभावना का नाम है

कवर्धा : विशेष आलेख : युवाओं के सपने होंगे साकार, मुख्यमंत्री कौशल विकास से मिला आधार : कबीरधाम जिले के तीन हजार 328 प्रशिक्षित युवाओं को मिला रोजगार

कवर्धा, 19 दिसंबर 2017

छत्तीसगढ़ के कबीरधाम जिले के शिक्षित युवक-युवतियों के लिए मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना आशा और उम्मीद की नई किरण लेकर युवाओं के सपनों को साकार करने में कारगर साबित हो रहा है। जिले में मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना के तहत कबीरधाम जिले में 73 प्रशिक्षण केन्द्र बनाए गए है। इन केन्द्रों के माध्यम से जिले के 8 हजार 28 युवक-युवतियों को उनके रूचि के अनुरूप प्रशिक्षण दिया जा चुका है, इन प्रशिक्षार्थियों में अब तक 3 हजार 328 युवक-युवतियों को रोजगार एवं स्वरोजगार की दिशा में नई राह मिल गई है।
मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना के तहत जिले के युवाओं को उनकी अभिरूचि के अनुसार स्वयं का रोजगार स्थापित करने के उद्देश्य से विभिन्न टेªड्स में उनके प्रशिक्षण दिये जा रहे हैं और उन्हें स्वावलंबी बनाने की दिशा में प्रयास किया जा रहा है। जिले के युवा इस प्रशिक्षण कार्यक्रम का लाभ लें रहे है और रोजगार के स्थापना के लिये प्रयास भी कर रहे हैं। कबीरधाम जिले में वर्ष 2014-15 में 2050 हितग्राहियों को कौशल विकास प्रशिक्षण प्रदाय किया गया, इसी प्रकार वर्ष 2017 तक जिले में 8028 युवाओं को विभिन्न ट्रेडो में प्रशिक्षण दिया गया हैं। मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना के तहत 16 व्यवसायों में 1691 हितग्राही प्रशिक्षित किये जिसमें राजमिस्त्री प्रशिक्षण में 306, इलेक्ट्रिकल 287, दोना पत्तल प्रशिक्षण 100, सिलाई प्रशिक्षण में 663, ब्यूटीपार्लर 23, टैली 17, कम्प्यूटर फंडामेंटल 133, सायकल मरम्मत 12, मोटर सायकल मरम्मत 12, बांस शिल्प कला 50 स्पोकन इंग्लिस 68, बेड साइड अस्सिटेंट व्यवसाय में 20 हितग्रायों को प्रशिक्षण प्रदाय किया गया। केन्द्र शासन की एसडीआई योजना के तहत 8 व्यवसायों में 359 हितग्राहियों को प्रशिक्षण प्रदाय किये जिसमें ड्रेसर में 100, बेसिक एनाटॉमी एंड फिजयोलॉजी में 140, ऑपरेशन थ्रेयटर टेक्निशियन में 19, बेसिक वूड वर्क मे 20, बांस शिल्प कला प्रशिक्षण में 20, मोटर सायकल मरम्मत में 20, सिलाई प्रशिक्षण 20 एवं राजमिस्त्री व्यवसाय में 20 हितग्रायों को प्रशिक्षण प्रदाय किये गये।
इसी तरह वर्ष 2013-14 में 2193 हितग्राहियों कौशल विकास प्रशिक्षण प्रदाय किया गया, जिसमें मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना के तहत 14 व्यवसायों में 1489 हितग्राहियों को प्रशिक्षण प्रदाय किये गये जिसमें सिलाई प्रशिक्षण में 654, कम्प्यूटर फंडामेंटल में 255, टैली में 47, कम्प्यूटर हार्डवेयर में 40, खाद्य प्रसंस्करण में 45, ब्यटीपार्लर में 140, राजमिस्त्री में 23, प्लंबर में 20, लैड स्केपिंग एण्ड फलोरीकलचर में 22, मोटर सायकल मरम्मत में 10, सायकल मरम्मत में 30, इलेक्टिकल में 50, स्पोकन इंग्लिस 25 एवं बेड साइड अस्सिटेंट व्यवसाय में 118 हितग्राहियों को प्रशिक्षण प्रदाय किये गये। केन्द्र शासन की एसडीआई योजना के तहत 704 हितग्राहियों प्रशिक्षित किया गया जिसमें मेडिकल एवं नर्सिग सेक्टर में 464 हितग्राही एवं कम्प्यूटर फंडामेंटल में 240 हितग्राहियों को प्रशिक्षित किया गया।
मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना प्रदेश की युवा पीढ़ी के लिए एक नई पहल है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह द्वारा शुरू इस रोजगार योजना से प्रदेश के हर युवा को आर्थिक रूप से स्वतंत्र बनाने तथा युवाओं को स्वालंबन की दिशा में नई दिशा देने में यह योजना कामयाब हो रही है। मुख्यमंत्री कौशल विकास का मुख्य उद्देश्य युवाओं को प्रोत्साहित करने और आज के युवाआंे को कौशल विकास को बढ़ाने के लिए है। मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना का लक्ष्य युवाओं को रोजगार के लिए आवश्यक कौशल के साथ आत्मनिर्भर बनाना है।
क्रमांक-1283/गुलाब

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0