हैलो रायपुर
Hello Raipur
Reflection of Chhattisgarh
Home Entertaining Fake News

आरटीआई (सूचना के अधिकार) २००५ के निशुल्क प्रसिक्षण हेतु आगे आयी ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल व छ.ग. नागरिक पहल से उच्च शिक्षा सचिव खेतान ने लगवाया आरटीआई आवेदन-


छ.ग.विद्यालयीन एवं महाविद्यालयीन छात्रों को टीआई तथा सीजीसीआई के द्वारा सूचना के अधिकार अधिनियम विस्तार पूर्वक समझाने सिखाने तथा उपयोग करने हेतु प्रोत्साहित करने का पावन कार्य किया जा रहा है। इसके लिये छ.ग. राज्य सूचना आयोग ने बाकायदा उन्हें पत्र दिया है तथा उच्च शिक्षा विभाग को उन्हें सहयोग हेतु भी लिखा है। टीआई के श्री प्रतीक पाण्डे उच्च शिक्षा विभाग के सचिव सीके खेतान से मिले। श्री खेतान ने उन्हें आवेदन बदलने को कहा। जब वे तुरंत हस्तलिखित आवेदन दे रहे थे तो उन्हें नया टाईप कर आवेदन देने कहा (इसके लिये श्री पाण्डे की टीम को बाहर जाना पड़ता व जब तक वे अंदर आते मिलने का समय समाप्त हो जाता) अगले दिन से श्री खेतान दिल्ली यात्रा के लिये निकल गये। उनके वापस आने पर जब टीआई तथा सीजीसीआई की टीम जब उनसे मिली। तो उन्होंने कहा मैं चाहता हूं कि आप ट्रेनिंग नही बल्कि वर्क शॉप ले तथा उससे सम्बंधित पूरा विवरण व मटेरियल पहले मेरे पास जमा कराये। जिसका पालन फिर से किया गया। तीन दिन बाद जब श्री खेतान से फिर समय मांगा गया।चाहता हूं कि आप ट्रेनिंग नही बल्कि वर्क शॉप ले तथा उससे सम्बंधित पूरा विवरण व मटेरियल पहले मेरे पास जमा कराये। जिसका पालन फिर से किया गया। तीन दिन बाद जब श्री खेतान से फिर समय मांगा गया। तो उन्होंने कहा कि अभी तक उन्होंने आवेदन पर विचार नहीं किया है। जब पूछा गया कि कब तक सम्पर्क करें तो वे डपट कर बोले, शसकीय प्रक्रिया में समय तो लगता है। आपको सूचित कर दिया जायेगा। विशस्त सूत्रों से पता चला है कि श्री खेतान यह देखना चाहते है कि टीआई तथा सीजीसीआई द्वारा प्रचारित सूचना के अधिकार अधिनियम में कितना दम है ? यदि वाकई यह कारगर है तो उनसे आवेदन पर कोई कार्यवाही करके दिखाये।
टीआई तथा सीजीसीआई से हमारा यही कहना है कि बहुत से उच्चाधिकारी आपकी सूचना के अधिकार अधिनियम के प्रचार- प्रसार कार्यक्रम को पसंद नही करेंगे। उन्हें लगता है कि इस औजार का उपयोग आम लोग उन्हें जवाब देह बनाने के लिये करेंगे, अनेक राजफाच्च भी हो सकते हैं। सही बात है ना खेतान साहब।
Note: कृपया सच्चे लोग इन खबरों को न पढ़ें ये खबरे काल्पनिक है और केवल मनोरंजन के लिए है। इन झूठी खबरों का उपयोग हिस्से या पूर्ण रुप से करना वैधानिक रूप से मना है। किसी जीवित, मृत व्यक्ति घटना से समानता होने पर उसे मात्र संयोग माना जावेगा, किसी को जाने-अनजाने ठेस लगने पर हमें खेद है।

Tags :
झूठी खबरेकाल्पनिक खबरेसनसनीखेज झूठी खबरे मनोरंजन झूठी खबरेEntertaining Fake NewsFaking NewsFalse NewsFake Newsआरटीआई(सूचनाअधिकार)२००५निशुल्कप्रसिक्षणहेतुआगेआयीट्रांसपेरेंसीइंटरनेशनलनागरिकपहलउच्चशिक्षासचिवखेतानलगवायाआरटीआईआवेदन-

Test कांग्रेस और रा वन बृजमोहन चलेंगे राजनीति में रजवाड़ों वाली चाल अखिलेश यादव ने ममता बैनर्जी को दिया आफर चमत्कार और श्रद्धा सरकारी धन से नही खरीद सकते- बृजमोहन अग्रवाल राहुल द्रविड़ के रिटायरमेंट पर किये जोक से राहुल गांधी हैरान छग के मंत्री बृजमोहन बने गुटखा के ब्रान्ड एम्बेसेडर, पान ठेले वालों में फैला हर्ष, लगायी गुटखा खाते हुए मंत्री की फोटा - केन्द्र सरकार का बढ़ा सिर दर्द, अतिगरीब लागों ने की चुनाव लड़ने में रिजर्वेशन की मांग - कर्नाटक विधान सभा के मंत्रियों को बर्खास्त कराने वाली पोर्न सीडी की भारी मांग बढ़ी - चमत्कार और श्रद्भा सरकारी धन से नही खरीद सकते - बृजमोहन अग्रवाल ऐसी दवाई जिसके खाते ही व्यक्ति की सभी मेडिकल रिपोर्ट गड़बड ा जायेंगी। पी चिदम्बरम ने दवाई बनाने वाले डॉ. को नोबल पुरस्कार की मांग की। द्रारद पवार ने कहा, यह राजनेताओं के लिये संजीवनी बूटी । बालोद काण्ड के पक्ष में उतरे राजेच्च मूणत मैदान पर, एक अंधे से दिलवाया सरकार के पक्ष में बयान- दिग्विजय सिंह ने दी मौन व्रत की धमकी - रामदेव बाबा, अन्ना व आर.एस.एस. सदमें में, मीडिया स्तब्ध- उमर अब्दुल्ला को पाक रत्न देने की तैयारी- मोहन भागवत ने किया सनसनीखेज खुलासा : कांग्रेसियों के उड़े होश छ.ग. में लोकल अन्ना की तलाश हेतु प्रदेश कांग्रेस ने दिया विज्ञापन - एच एम स्क्वॉड बंद कराने में रिश्वत खोर पुलिस वालों का हाथ, विशेष अनुसंधान सेल भी प्रायोजित - गृहमंत्री ननकीराम कंवर '' मैं एक छोटा सा, नन्हा सा, प्यारा सा बच्चा हूं '' फिल्म के टाईटिल रोल के लिये मनमोहन सिंह को शक्ति कपूर ने अनुबंधित किया - कांग्रेस जन-जागरण रैली में कांग्रेसियों के आपस में लड़ने व सोने के पीछे भाजपा व आरएसएस का हाथ - प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नंदकुमार पटेल सुरेश कलमाड़ी के शरीर पर फिल्म गजनी की तरह टैटू लिखवाने का निर्देश दिया सुप्रीम कोर्ट ने-
1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 |
Contact Us | Sitemap Copyright 2007-2012 Helloraipur.com All Rights Reserved by Chhattisgarh infoline || Concept & Editor- Madhur Chitalangia ||