हैलो रायपुर
Hello Raipur
Reflection of Chhattisgarh
Home बेहतरीन रचना बेहतरीन लेखक

सुप्रीम कोर्ट का विचित्र फैसला


रामलीला पर सर्वोच्च न्यायालय ने जो निर्णय दिया है, वह अपने आप में बड़ा विचित्र है। सबसे पहले तो सर्वोच्च न्यायालय की सराहना करनी होगी कि उसने आगे होकर इस रावणलीला को मुकदमे का विषय बनाया। लेकिन छ: माह तक खोदा पहाड़ और उसमें से निकाला क्या? निकाला यह है कि चार जून को बर्बरतापूर्ण कार्रवाई के लिए सिर्फ दिल्ली पुलिस जिम्मेदार है। क्या अदालत को यह पता नहीं कि दिल्ली पुलिस भारत के गृहमंत्रालय के अंर्तगत है?
रामलीला मैदान में आयोजित अनशन क्या किसी गली—कूचे में चोरी चकारी का मामला था, जिसे पुलिस खुद अपने बूते हल कर सकती थी? जिस मामले को सुलझाने के लिए चार—चार मंत्री हवाई अड्डे दौड़ गए हों, क्या दिल्ली पुलिस उसके बारे में अपने आप फैसला कर सकती थी? आश्चर्य है कि अदालत ने पुलिस को तो रावण—लीला के लिए जिम्मेदार ठहरा दिया लेकिन उसके राजनीतिक आकाओं के खिलाफ एक शब्द भी नहीं बोला। गरीब की जोरू सब की भाभी!
अदालत के सम्मान की रक्षा तो तब होती जब वह असली अपराधियों पर उंगली धरती! अदालत ने यह अच्छा किया कि दिवंगत राजबाला समेत अन्य घायलों को मुआवजा देने की बात कही, लेकिन 75 प्रतिशत मुआवजा सरकार दे, यह कहा! सरकार के पास किसका पैसा है? हमारा है। हमारी जूती हमारे ही सर। मुआवजे का पैसा तो उन राजनीतिक आकाओं से वसूल करना चाहिए, जिन्होंने 4 जून को रामलीला मैदान में गुंडागर्दी करवाई। रामदेव से 25 प्रतिशत मुआवजा देने की बात कहना ऐसा ही है, जैसे कार चोर से 75 प्रतिशत और कार मालिक से 25 प्रतिशत कीमत वसूल करना है। मालिक का दोष यह है कि उसने कार को जंजीरों से बांधकर क्यों नहीं रखा? क्या खूब न्याय है?
यह फैसला यह मानकर चल रहा है कि भारत लोकतंत्र नहीं है, एक ‘पोलिस स्टेट’ है। यहां प्रधानमंत्री, गृहमंत्री और मंत्रालयों की कोई हैसियत नहीं है। गंभीरतम फैसले पुलिस खुद कर लेती है। ऐसे फैसले सर्वोच्च न्यायालय अपनी प्रतिष्ठा पर धक्का पहुंचा सकते हैं . सर्वोच्च न्यायालय को अपनी प्रतिष्ठा रक्षा कर इस फैसले पर तुरंत पुर्नविचार करना चाहिए। यह फैसला बताता है कि इन विद्वान जजों को भारतीय परंपराओं पर ध्यान ठीक से नहीं दिया । क्या कोई भक्त अपने धर्मगुरू से मुआवजा मांग सकता है? और यदि उसे दिया जाए तो क्या वह उसे स्वीकार करेगा? राजबाला के पति के दो टूक जवाब ने इस फैसले की धज्जियां उड़ा दी। इसीलिए यह बहुत विचित्र फैसला है।
------ डॉ. वेदप्रताप वैदिक

Tags :
ब्लॉगचर्चा ब्लॉग साहित्य रचनाकार रवीन्द्र व्यास नेट कविता नज्में गीत हिंदी साहित्य ब्लॉगर कहानी कवयित्री उपन्यास blog charcha blog literature rachanakaar ravindra vyas net story poem poetry novelसुप्रीमकोर्टविचित्रफैसला

धूम्रपान समय से पहले ले जाता है मौत के दरवाजे पर - सुनीता केशरवानी 'जो प्यार से नहीं मानते उन्हें डराना पड़ता है' मीडिया के लिए मानदंड क्रिकेट पर बड़ा दांव जरदारी की जियारत सावधान इंटरनेट पर सीआईए आपकी जासूसी कर रहा है आजम को निपटाना चाहते हैं मुलायम ! इसलिए गायब हैं यूपी से क्षत्रप! काले कर्मों वाले बाबा पिट गई गुरु चेले की जोड़ी , गांधी परिवार के करिश्मे पर लगा प्रश्न चिन्ह ? सुप्रीम कोर्ट का विचित्र फैसला जाने अखिलेश यादव की कुशल रणनीति जिससे उन्होंने विरोधियों को चटाई धूल जयललिता : एक सफल अभिनेत्री और कद्दावर नेता नेताजी की नजरें 7, रेसकोर्स पर कांग्रेस के लिए कठोर हो गए हैं मुलायम लापरवाह सरकार के भरोसे सवा सौ करोड़ हिन्दुस्तानी! व्यंग्‍य/ क्या मैं तुम्हें सोनिया गांधी लगता हूं? बहनजी का हिसाब ज्यों का त्यों फिर बसपा सरकार डूबी क्यों ? इक़बाल हिंदुस्तानी स्मृति शेष — जंग ए आज़ादी के गुमनाम सेनानी अरविन्द विद्रोही 100 करोड़ का प्रेम मंदिर By visfot news network 15/02/2012 15:02:00
1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 |
Contact Us | Sitemap Copyright 2007-2012 Helloraipur.com All Rights Reserved by Chhattisgarh infoline || Concept & Editor- Madhur Chitalangia ||